Mughal Empire History in Hindi | मुग़ल साम्राज्य

दोस्तों आज आपके सामने लेकर आये है एक बहुत ही महत्वपूर्ण टॉपिक जिसमे से अक्सर ज्यादा तर प्रश्न परीक्षा में पूछे जाते है और यह किसी भी competitive exam के लिए महत्वपूर्ण है उसमें हम सभी Mughal Empire से बन्ने वाली सभी जानकारी आप तक पोहचांगे तो जरू पढ़े.

Mughal Empire | मुग़ल साम्राज्य ‘ ( 1526-1857 )

जब लोदी वंश के आखरी राजा इब्राहिम लोदी ने भारत देश के अंदर उत्पात मचा कर रख दिया था तब मेवाड़ के शासक राणा सांगा ने बाबर को बुलाया था अफगानिस्तान से और बाबर ने आकर इब्राहिम लोदी को पानीपत के प्रथम युद्ध में हरा दिया था फिर यहीं से शुरू हुई थी Mughal Empire की स्थापना.

बाबर : ( 1526-1530 )

  • बाबर का जन्म फ़रगना घाटी के अन्दीझान नामक शहर में हुआ था जो अब उज्बेकिस्तान में है. और उनके पिता का नाम उमर शेख़ मिर्ज़ा था.

⇒ बाबर द्वारा लड़े गए प्रमुख युद्ध

युद्ध वर्ष पक्ष और विजता
पानीपत का प्रथम युद्ध 21 अप्रैल , 1526 इब्राहिम लोदी और बाबर
खानवा का युद्ध 17 मार्च , 1527 राणा साँगा और बाबर
चन्देरी का युद्ध 29 जनवरी , 1528 मेदनी राय और बाबर
घाघरा का युद्ध 6 मई , 1529 अफगानों और बाबर
  • खानवा के युद्ध के बाद बाबर को ” गाजी “ की उपाधि दी गयी थी बाबर ने अपनी आत्मकथा ” बाबरनामा ” की रचना की थी.

बाबर के चार पुत्र हुए

  1. हुमायूँ
  2. कामरान
  3. असकरी
  4. हिन्दाल

करीब 48 वर्ष की ऊम्र में 1530 में आगरा में बाबर की मृत्यु हो गई पहले बाबर के लाश को आग्रा में दफनाया गया था पर बाद में उसे ले जाकर काबुल(अफगानिस्तान) में दफना दिया गया.

हुमायूँ (1530-1556 ) : –

तो 1530 में पिता की मृत्यु के बाद 23 साल की उम्र में हुमायूँ राजगद्दी पर बैठा और हुमायूँ की शादी हमीदा बानू बेगम से हुए , जिसने अकबर को जन्म दिया हुमायूँ के शासनकाल में ही शेर शाह सूरी ने GT रोड बनवाया था हुमायूँ की आत्मकथा पर पुस्तक हुमायूँनामा  गुलबदन बेगम द्वारा लिखी गई.

अकबर ( 1556-1605 ) : –

अकबर का जन्म 1542 में ” अमरकोट ” पाकिस्तान में हुआ था अकबर ने कम उम्र में ही पानीपत का द्वितीय युद्ध ( 1556 ) में सिकंदर सूरी के सेनापति हेमू को युद्ध में हराया था अकबर का शासन काल हिंदी साहित्य का स्वर्ण काल कहलाता है अकबर ने 1582 में “ दीन ए इलाही “ की स्थापना कीथी.

अकबर के 9 रत्न

Trick : – BAT BAT ( PE ) MDH

  • B बीरबल A -अबुल फजल T — तानसेन
  • B– भगवानदास A – अब्दुल रहीम खाने खाना T – – टोडरमल
  • M –मानसिंह D –मुल्ला दो प्याजा H– हकीम हकाम

अकबर के कुछ महत्वपूर्ण कार्य

  1. तीर्थयात्रा Tax समाप्त
  2. जजिया Taxसमाप्त
  3. दीन – ए – इलाही की स्थापना
  4. इलाही संवत की शुरुआत

अकबर ने गुजरात विजय पर ” बुलंद दरवाजे ” का निर्माण कराया था

  • अबुल फजल ने अकबर की आत्मकथा पर अकबरनामा की रचना कीथी और अकबर की मृत्यु 1605 में हुई इन्हें आगरा के बहार सिकंदरा में दफनाया गया.

जहाँगीर ( 1605-1627 ) : –

  • अकबर का पुत्र  जहाँगीर( सलीम ) 1605 में राजगद्दी पर बैठा.

जहाँगीर के शासनकाल में चार यूरोपीय यात्री भारत आये थे

  1. हॉकिन्स
  2. विलियम फिंच
  3. सर टॉमस रो ए
  4. डवर्ड टैरी
  • उनका विवाह मेहरूनिसा ( नूरजहाँ ) से हुआ था.
  • जहांगीर के समय को “चित्रकला का स्वर्ण काल” कहा जाता था.
  • जहाँगीर के प्रमुख चित्रकार “अबुल हसन” थे.

शाहजहाँ ( 1627-1657 ) : –

  • जहांगीर के बाद सिंहासन पर शाहजहां बैठा.

शाहजहां की बेगम का नाम अर्जुमंद बानू ( मुमताज ) था और शाहजहां के शासनकाल को स्थापत्य कला का Golden Age कहा जाता था.

शाहजहां द्वारा बनाई गई प्रमुख इमारतें

दिल्ली का लाल किला

ताजमहल • मुख्य कारीगर :- अहमद लाहौरी

⇒ म्यूर सिंहासन • मुख्य कारीगर :- बादल खां

→ दिल्ली की जामा मस्जिद

  • उत्तराधिकारी बनने के लिए दारा शिकोह और औरंगजेब के बीच धर्मट का युद्ध हुआ उसके बाद औरंगजेब ने शाहजहां को बंदी बना लिया और आगरा के बंदी गृह में ही 74 साल की उम्र में शाहजहां की मृत्यु हो गई

औरंगजेब ( 1658-1707 ) : –

  • औरंगजेब ने शाहजहाँ को बंदी बनाने के बाद खुद को बादशाह घोषित कर दिया.

पूरे मुगल वंश में सबसे ज्यादा Tax वसूलने वाला शासक थे लोग उन्हें “आलमगीर “ और ” जिंदा पीर “ कहकर पुकारते थे औरंगजेब ने जजिया Tax को फिरसे लागू कर दिया था और औरंगजेब के शासनकाल में मुगल सेना में ज्यादातर हिंदू सेनापति थे औरंगजेब की मृत्यु 1707 में हो गई और इसे खुल्दाबाद मैं दफनाया गया.

सभी मुग़ल सम्राट के नाम

याद रखने की ट्रिक BHAJI SABJI FOR MAASAAB

B- बाबर H- हमायूँ A- अकबर Ji- जहांगीर

S- शाहजहाँ A- औरंगजेब B- बहादुरशाह Ji- जहाँदारशाह

For- फर्रूखशियर

M- मुहम्मद शाह A- अहमद शाह A- आलमगीर Sh- शाह आलम-II A- अकबर-II B- बहादुर शाह जफर

यह भी जरुर पढ़े

गाँधी युग | भारतीय इतिहास

Leave a Comment